Header Ads

क्यों बस्तर बंद का आदिवासी समाज ने किया एलान जानिए इस रिपोर्ट में।

एक दिवसीय बस्तर बन्द का आदिवासी समाज ने किया एलान। 

बस्तर:- 6 सितंबर दिन बुधवार को आदिवासी समाज ने बस्तर बन्द का एलान किया है, मिली जानकारी के अनुसार  दंतेवाड़ा के पालनार कन्या छात्रावास में राखी बंधवाने के बहाने सीआरपीएफ के जवानों ने आदिवासी बालाओं के साथ घृणित कार्य  तथा शासन द्वारा मामले को दबाने का भरसक प्रयास करने  इस मामले के आरोपियों के खिलाफ 376 तथा एट्रोसिटी एक्ट के तहत अपराध दर्ज किये जाने व कांकेर जिले के पखांजूर में 9 अगस्त को आयोजित विश्व आदिवासी दिवस के दिन विशाल रैली में पूर्व सुनियोजित तरीके से घुसकर बाधा पहुंचाने व उल्टे आदिवासी समाज को बदनाम करने के विरोध में तथा परलकोट क्षेत्र में निवासरत बंग समुुदाय का माइग्रेशन की जांच व अवैध रुप से निवास करने वालों को चिन्हांकित कर तत्काल बस्तर से बाहर करने की मांग को लेकर आदिवासी समाज द्वारा 6 सितंबर 2017 दिन बुधवार को एक दिवसीय बस्तर बंद एवं 14 सितंबर तक कार्यवाही नहीं होने पर 15 सितंबर से अनिश्चितकालीन बस्तर बंद का आव्हान किया गया है। 
वही जानकारी मिली है कि बन्द के दौरान किसी प्रकार के हिंसा से बचने के लिए प्रशासन पूरी तरह अपनी तैयारी में है। वहीं बंग समाज के पदाधिकारियों ने बन्द के दौरान अप्रिय घटना से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन को पत्र लिख कर सुरक्षा की मांग की है । विदित हो कि सामुदायिक टकराहट और हिंसा की स्थिति निर्मित हो रही है, जिस पर समय रहते कोई उचित उपाय नही निकाला गया तो समस्या विकराल रूप ले लेगी। बरहाल इस मामले पर तमाम जनप्रतिनिधि चुप रहना ही उचित समझ रहे है। दूसरी ओर प्रशासन के लिए यह मामला सिर दर्द बना हुआ है, शांति स्थापित करने के लिए भरसक प्रयास में लगी हुई है। 
Powered by Blogger.