Header Ads

ना जान देंगे, ना जमीन देंगे – गढ़चिरौली के आदिवासी क्षेत्र की जनता ने किया खनन के खिलाफ भूमकाल का एलान

एटापल्ली- कल से लोग एटापल्ली में जमा, ठण्ड में गुजारी रात, हजारो की तादात में लोग पहुचे एस.डी.ओ. के कार्यालय, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात.


आज महाराष्ट्र विधान सभा के शीतकालीन नागपुर सत्र के पहले दिन गढ़चिरौली  जिल्हे
के विभिन्न क्षेत्रो में लोगो ने संगठित होकर प्रस्तावित खनन परियोजनायो का, वर्त्तमान सरकार के जनविरोधी नीतियों का जोरदार विरोध किया. एवं पेसा, वन अधिकार कानून के प्रभावी अमल, ग्रामसभायों के सार्वभौमता, आदिवासी एवं अन्य समुदायों के अधिकारों की सुरक्षितता, प्रशासनिक गतिरोध और दमन को बंद किया जाये आदि महत्वपूर्ण मांगो को लेकर जोरदार प्रदर्शन कर सत्ताधारी एवं विरोधी पक्षों को स्थानिक जनता के मुख्य सवालों के तरफ ध्यान देने का किया आवाहन. साथ ही विधान सभा के विरोधी पार्टियों से आवाहन किया की वे गढ़चिरौली के आदिवासी क्षेत्र के सवालों मुख्यतः जनविरोधी खनन और विस्थापन के सवाल को लेकर विधान सभा में सवाल उठाये और सरकार को घेरे. आज उत्तर गडचिरोली के कोरची तहसील में स्थानिको द्वारा रास्ता रोको आन्दोलन किया गया, वही दक्षिण गडचिरोली के एटापल्ली में एटापल्ली एवं भामरागड तहसील के ग्रामीण अपने पारंपरिक वाद्य-नृत्य के साथ अपने सवालों को लेकर उप-विभागीय अधिकारी से मिलने 
गए.

देखे विडिओ 










एटापल्ली:
रोजगार और विकास के नाम पर सुरजागड़ इलाके के देव, पवित्र डोंगर-पहाड़ और वनों को नष्ट करने वाले, आदिम संस्कृति को ख़त्म करने के प्रयासों, और स्थानिक लोगो को विस्थापित करने पे तुले हुए सभी खदानों को गैर कानूनन घोषित कर उन्हें तुरंत बंद किया जाये, किए गए सभी एम्.ओ.यु. रद्द किये जाये, खनन का विरोध कर रहे स्थानिको पर किये जा रहे पुलिसिया दमन को तुरंत रोका जाये, पेसा एवं वन अधिकार कानूनों का प्रभावी अमल हो और अन्य मांगो को लेकर एटापल्ली और भामरागड तहसील के विभिन्न क्षेत्रो से हजारो की तादाद में लोग पहुचे एटापल्ली.

अलग-अलग गावो से लोगो ने कल ही उप-विभागीय अधिकारी के मुख्यालय एटापल्ली के तरफ अपना रास्ता शुरू किया. कल रात ही लोग अपने सवालों को लेकर एटापल्ली पोहचे. लोगो ने कड़ी ठण्ड में पूरी रात एटापल्ली के सामूहिक गोटुल के पास गुजारी. आज सुबह से अपने पारंपरिक ढोल-नृत्य के साथ लोगो ने एटापल्ली उप-विभागीय अधिकारी के कार्यालय का रास्ता पकड़ा.

अपने सांस्कृतिक गीतों के बिच “हम अपना पहाड़ नहीं देंगे..सुरजागड़ हमारा है..  के नारों के बिच जनता ने बड़ी रैली निकाली. अभी भी लोग उप-विभागीय अधिकारी के कार्यालय को घेरे हुए है. जनता की मांगे मानी नहीं जाने तक एटापल्ली नहीं छोड़ेंगे यह आन्दोलन करते ग्रामीणों ने इशारा दिया है. प्रशासन ने भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया है.
ग्रामीणों का घेराव अभी भी जारी है.

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करे:
एड. लालसू नागोटी 09405130530, सैनु गोटा 08275874405



यह रिपोर्ट फोटोग्राफ्स  महेश रावत जी की है जिसको ज्यो का त्यों हमने पोस्ट किया है कृपया कॉपी पेस्ट न करे अगर करे तो उनका नाम दे. 
बस्तर प्रहरी 

Powered by Blogger.