Header Ads

पहाड़ का सीना चीर कर कांकेर पुलिस व जिला प्रशासन पहुंचा ग्राम मर्रापी



कांकेर विकासखण्ड के ग्राम मरदापोटी का आश्रित ग्राम मर्रापी वाह गाँव है जो कांकेर जिला मुख्यालय से मात्र 20/22  किमी की दुरी पर स्थित पहाड़ी में बसा है, यहा आस –पास मरका, कुलमुच्चे गाँव भी पहाड़ी पर बसे है,

विगत दिनों संपन्न मरदापोटी जनसमस्या निवारण शिविर में पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेंज श्री विवेकानंद सिन्हा ने कांकेर के दो ग्रामों को गोद ग्राम लिए जाने की सलाह पुलिस प्रशासन को दी और उसके अनरूप कार्यवाही करने को कहा। उसी परिप्रेक्ष्य में पुलिस अधीक्षक श्री के.एल.ध्रुव व उप महानिरीक्षक श्री रतन लाल डांगी के मार्गदर्शन में ग्राम मर्रापी का चयन किया गया ।


आज मर्रापी गाँव में विकास कि बयार भ रही है कांकेर - - पहाड़ का सीना चीर कर जनसहयोग और पुलिस प्रशासन की मदद से निर्मित सड़क मार्ग से आज पुलिस के आलाअधिकारी और कलेक्टर श्री टामन सिंह सोनवानी के नेतृत्व में पूरा जिला प्रशासन ग्राम मर्रापी के ग्रामीणों के बीच पहुंचा और उनकी समस्याओं, मांगों का निदान किया।

आप को बता दे कि विगत दिनों संपन्न मरदापोटी जनसमस्या निवारण शिविर में पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेंज श्री विवेकानंद सिन्हा ने कांकेर के दो ग्रामों को गोद ग्राम लिए जाने की सलाह पुलिस प्रशासन को दी और उसके अनरूप कार्यवाही करने को कहा। उसी परिप्रेक्ष्य में पुलिस अधीक्षक श्री के.एल.ध्रुव व उप महानिरीक्षक श्री रतन लाल डांगी के मार्गदर्शन में ग्राम मर्रापी का चयन किया गया ।

यहां पर आठ किलोमीटर टेढ़ी-मेढ़ी लंबी पहाड़ी को चीर कर ग्राम वालों के सहयोग और पुलिस सुरक्षा के मध्य सड़क का निर्माण किया गया । संयुक्त रूप से आयोजित किए गए मोर मितान व जनसमस्या निवारण शिविर को संबोधित करते हुए पुलिस महानिरीक्षक श्री विवेकानंद सिन्हा ने कहा कि मर्रापी के ग्रामवासी सिर्फ सड़क मार्ग बनने मात्र से ही संतोष न करें। लगातार विकास के लिए संघर्ष करते रहें। उन्होंने संघर्ष की व्याख्या करते हुए कहा कि संग$हर्ष अर्थात संघर्ष । मिल कर जिस कार्य को करके हर्ष का अनुभव हो वही कार्य करें । अभी सड़क मार्ग बना है। इसी सीसी रोड़ बीटी रोड के लिए कोशिश करें। सतत् प्रयास जारी रखना होगा । उन्होंने ग्राम की महिलाओं, बच्चों को पुलिस की सबसे बड़ी ताकत बताते हुए कहा कि इनके सहयोग से क्षेत्र की नक्सली समस्याओं का निदान निकलेगा। उन्होंने ग्रामवासियों को  नातेदारों, रिश्तेदारों, दोस्तों, परिचितों से अपील की और कहा कि यदि कोई उनका परिचित अज्ञान्तावश अन्य संदिग्ध गतिविधियों में लिप्त है तो उसे समाज की मुख्यधारा में शामिल करें। श्री सिन्हा ने समन्वित प्रयास से ग्राम के विकास का संकल्प लेने को कहा। श्री सिन्हा ने ने अन्य विकसित क्षेत्र के लोगों की तलना में मर्रापी वासियों को भी समकक्ष बताते हुए कहा कि प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती। उसका उदय कहीं भी हो सकता है। 
कलेक्टर श्री टामन सिंह सोनवानी ने कहा कि यह एक संयोग ही है, मर्रापी ग्राम पहुंचने का मुझे अवसर मिला। मुझे बताया गया की कोई 5-6 साल पहले विकास खण्ड अधिकारी यहां आए थे उसके बाद कोई भी अधिकारी कर्मचारी नहीं पहुंचा। श्री सोनवानी ने मोर मितान कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि पुलिस के अथक प्रयास से यहा पहुंच मार्ग बन सका और हम सभी यहां पहुंच सके हैं। हमारी पूरी कोशिश है कि हम विकास की किरणे उन सुदूर क्षेत्रों तक फैलायें जहां सूरज की रौशनी

 सौ. कांकेर जनसंपर्क विभाग द्वारा जनहित में जारी समाचार  



Powered by Blogger.