Header Ads

प्राकृति की है यही दासता जल जंगल से रखो वास्ता








प्राकृति की है यही दासता
जल जंगल से रखो वास्ता
क्योंकि दुख सुख का बस हम है रास्ता

इंसान तू क्यों हमे बंट ता 
हमारे अंदर तू क्यों नह झांकता

मेरी हवाये रूठी रूठी
पक्षी भी है रोती रहती
मिटा दिया तूने जंगल सारा
लूटने को है अस्तित्व तुम्हारा
हम नह रहते इस जहां म जी
फिर तुम कैसे जीते जी

कल कल करती नदिया भी कहती
मैं अपने लिए नह हु बहती
रोक दिया जो रास्ता मेरा
कैसे सवारु जग ये सारा
कुछ कहती मेरी नदिया न्यारी
मेरी जीवन पूरी है तुहारी

पेड़ पत्ते पौधे भी कहते
हम मर जाते तुम कैसे जीते
काट रहे मुझे कतरा कतरा
बाँट रहे हो टुकड़ा टुकड़ा
बिन बोले मैं अपने आप ही आजाऊ
मरने पर भी कुछ नह कह पाऊ

धरती को तुम किये हो बंजर
कितना भयानक देखो ये मंजर
हरियाली जहाँ पे होती रहती
धूप की गर्मी अब वहा पे होती
हमको बनाये खेलने का मैदान 
क्या कही और से आ रहा खाने का सामान

बादल भी गर्जना छोड़ गए
पेड़ भैया जो खो गए
छीने लिए तुम इनकी मुस्कान 
कहा से आये खेतो म धान
रख लो मेरी प्राकृतिक का ख्याल
क्यो की कुछ ही समय है मेरे पास

प्रकृति की है यही दासता
जल जंगल से रखो वास्ता

प्रदीप मरकाम 
भिलाई नगर दुर्ग
Powered by Blogger.