Header Ads

बस्तरिया महतारी चिखत,अउ चिखत करय पुकार. आवव गुण्डाधुर के वीर सपूतो,अउ मोर बचा लो प्राण- अनमोल



बस्तरिया महतारी चिखत,अउ चिखत करय पुकार....
आवव गुण्डाधुर के वीर सपूतो,अउ मोर बचा लो प्राण

 बस्तर के पावन भुइँया,जिन्हा बसय आदिवासी महान
आज ओही बस्तर के सम्मान के खातिर देवत हे बलिदान देवत हे बलिदान

संस्कृती सभ्यता के अमर कहानी,जेला गढ़य आदिवासी महान
आज ओही संस्कृती अउ सभ्यता के संरक्षण खातिर,होवत हे कुर्बान होवत हे कुर्बान

संविधान हा जेन ला मालिक बनाईस,आज होंगे हे कंगाल
आज ओही संविधान के रश्ता मा चल के,माँगत हे इंसाफ माँगत हे इंसाफ

संस्कृती अउ सभ्यता के संरक्षण खातिर,मिलिस 5 वी अनुसूची के अधिकार
 अउ ओही 5 वी अनुसूची के अधिकार पाये खातिर,आज लड़त आदिवासी महान आज लड़त आदिवासी महान.

जल,जंगल,जमीन के जेखर,अजर अमर हे कहानी
आज ओही जल,जंगल,जमीन के रक्षा खातिर मरत हे आदिवासी मरत हे आदिवासी

पर धरम के जाल मा फँस के,वंश ला करेन अपन ख़राब
आज ओही प्रथा अउ वंश के खातिर,तड़पत हन दिन रात तड़पत हन दिन रात

मनुवाद के फ़ांस हे गहरा,अउ पर धरम हा जाल हे
आज ईही फ़ांस अउ जाल मा फ़ांस के,लुटगे हे इतिहास हे लुटगे हे इतिहास हे

गोंडवाना के वीर सपूतो जानव अपन इतिहास ला
अब बन जा तै फिर वही गुण्डाधुर,अउ छीन ले पापी के प्राण ला,छीन के पापी के प्राण ला

आवव आवव कोयावंशी,कोयतुर मोर जवान मन
 अब उठव जागव अउ लड़ो सबो झन,हमर इतिहास अउ अधिकार बर हमर इतिहास अउ अधिकार बर....

अनमोल मंडावी आदिवासी युवा छात्र संघठन के अध्यक्ष है । 





Powered by Blogger.