Header Ads

मूलनिवासी कला साहित्य और फिल्म फेस्टिवल 2018


अविनाश मरकाम की रिपोर्ट
उद्देश्य :-  मूलनिवासी कला साहित्य एवं फिल्म फेस्टिवल कराने का उद्देश्य ये है कि हमारी युवा पीढ़ी को उनकी अपनी मूल सभय्ता का ज्ञान हो और ओ शिक्षा वा बिजनेस की ओर आगे बढ़ सके वा अपनी आर्थिक व्यवस्था को मजबूत कर सके तथा अपने इतिहास को जान सके ।।।

कार्यक्रम 2 दिवसी रखा गया था 29-30सितंबर ।।

पहला दिन के पहले सत्र पे पद्मश्री जे एम नेल्सन दुआरा उद्घाटन भाषण दिया गया।।।
फिर बच्चों दुआरा बनाये गये छाया चित्र शिल्पकला वा पेंटिंग ड्रॉइंग कविता पोस्टर की जो पर्दारसनी का उद्घाटन किया गया गया ।। वा बच्चों दुआरा लोक साहित्य नृत्य का प्रदर्शन भी किया गया।।
शाम को  डॉक्यूमेंट्री फिल्म का प्रदर्शन किया गया साथ ही साथ  "अराक्षण हमारा प्रतिनितधित्व है" जैसे विषय पे एक नाट्य का आयोजन भी किया गया वा फुले आंबेडकर के विचारों पे संगोष्ठी किया गया बुद्धजीवियों दुआरा।।।

*दूसरे दिन के सत्र में*

पहला सत्र युवाओं को दिया गया जिसमें युवाओं के लिये कैरियर काउंसिलिंग का आयोजन किया गया जिसमें PRSU के प्रो अशोक प्रधान वा प्रो शैलेष जाधव दुआरा युवाओं को पढाई में आने वाली समस्यों के सन्दर्भ में वा कॉम्पिटिसन एग्जाम की तैयरी कैसे किया जाये इसकी जानकारी दिया गया ।।।
तथा कुछ युवाओं दुवारा संगोष्ठी भी किया गया जिसमें अवि मरकाम दुवारा आदिवासियों की मूल सभय्ता पे वा अनुभव शोरी दुआरा आदिवासियों के पेशा एक्ट जल जंगल जमींन से जुडी हुई अधिकारों के बारे में जानकारी दिया गया ।।

दूसरा सत्र :- पद्मश्री एल जे नेल्सन दुवारा दलित वा मूलनिवाशियो पे हो रहे अत्तियारचर वा शोषण वा मूलनिवाशियो की सभय्ता को कैसे खत्म किया जा रहा है उस पे संगोष्ठी किया गया ।। तथा गोंडी साहित्यकार  उषा किरण आत्राम जी दुवारा गोंडी धर्म(कोयापुनेम) पर विवेचना किया गया वा मूलनिवाशियो की जो मूल सभ्यता वा इतिहास की जानकारी प्रदान की गई।।।

इसके साथ नागराज मंजुले की फिल्म काला का भी प्रदशर्न किया गया ।। वा कबीर पंथी की दोहे वा सतनाम के संदेशों का व्याख्या किया गया।।।


आखरी सत्र में संयुक्त आयोजन समिति के अध्यक्ष एल उमाकांत जी दुवारा समापन संगोष्ठी दिया गया तथा  साथ में युवाओं को मैडल सहित सर्टिपीकैट दिया गया इसके साथ ही भोजन पश्चात कार्यक्रम की समापन किया गया।।।।


              आयोजक

सेल ST ,SC इम्प्लॉई एसोसियन वा संयुक्त आयोजन समिति.
Powered by Blogger.