Header Ads

'उलगुलान की आवाज' आशीष सिंदराम की एक कविता....



"उलगुलान की आवाज"

उलगुलान की आवाज को हर कोने तक पहुंचाना होगा,
और हर कोने से एक-एक वीरपुत्रों को जगाना होगा ।

तभी यह उलगुलान की मशाल जल पाऐगी,
और बिरसा की क्रांति चारों ओर चल पाऐगी ।

इस मशाल को अब जलाना होगा,
घरों से निकल कर रणभूमि में आना होगा ।

उलगुलान की आवाज को हर कोने तक पहुंचाना होगा ।

आओं बिरसा के दिवानों रणभूमि में आओ,
रणभूमि में आकर विजय तिलक लगवाओ ।

तभी बिरसा की क्रांति सफल होगी,
और आगे निश्चित जीत हमारी होगी ।

समय आ गया है क्रांतिकारी तेवर दिखाना होगा,
पीछे हटने से काम नहीं चलेगा अब तो रणभूमि में आना होगा ।

और,
उलगुलान की आवाज को हर कोने तक पहुंचाना होगा ।

क्रांतिकारियों के वंशज हो तुम अपना जिर्र पहचानों,
आवो युवाशक्ति आवो अपने इतिहास को जानो ।

याद करो कैसे बिरसा ने उलगुलान की मशाल जलाई थी,
याद करो कैसे दुर्गावती ने वीरगति पाई थी ।

याद करो पिता-पुत्र के बलिदान को,
जिसने क्रांति की एक लहर बनाई थी ।

याद करो वीर गुंडाधूर को,
जिसने अंग्रेजों के सामने आफत मचाई थी ।

युवा शक्ति को अब जागना होगा,
चट्टानों से भी टकराना होगा ।

मावा नाटे मावा राज के नारे को सच करके दिखाना होगा ।

उलगुलान की आवाज को हर कोने तक पहुंचाना होगा ।

युवा लेखक
आशीष सिंदराम
जिला कोरबा (छ.ग.)
Powered by Blogger.